November 28, 2021, 6:04 pm
Homeछत्तीसगढ़सराफा व्यापारियों को बड़ी राहत, 40 लाख से कम टर्नओवर वालों के...
advertisementspot_img
advertisementspot_img
advertisementspot_img
advertisementspot_img

सराफा व्यापारियों को बड़ी राहत, 40 लाख से कम टर्नओवर वालों के लिए BIS में पंजीयन जरूरी नहीं

advertisement

रायपुर। केंद्र सरकार ने सराफा कारोबारियों को बड़ी राहत दे दी है। आभूषणों में हालमार्किंग की अनिवार्यता लागू होने के साथ ही कारोबारियों को बड़ी राहत दी गई है। अब 40 लाख से कम टर्नओवर वाले सराफा कारोबारियों को बीआईएस में पंजीयन कराने की आवश्यकता नहीं है। हालांकि, वे बीआईएस में पंजीयन चाहते हैं, तो करा सकते हैं। सराफा सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, व्यापारियों की बहुत सी मांगों को सरकार ने स्वीकार कर लिया है।

अब गहनों में हालमार्किंग अनिवार्य है, लेकिन थोक व चिल्हर कारोबारियों को थोड़ा समय भी दिया गया है। जिन कारोबारियों के पास पुराना स्टाक बचा है वे 31 अगस्त तक इसे हालमार्किंग करा सकते हैं। उन पर किसी भी प्रकार से जुर्माना नहीं लगाया जाएगा। इसके साथ ही सबसे बड़ी राहत के रूप में यह दी गई है कि अब सराफा कारोबारी 20, 23 व 24 कैरेट की ज्वेलरी बेच सकते हैं। इन्हें हालमार्किंग की मान्यता दे दी गई है।

सराफा कारोबारियों द्वारा काफी समय से इसकी मांग की जा रही है। साथ ही अभी देश भर में 256 जिलों में हालमार्किंग सेंटर है और जहां सेंटर नहीं है, वहां छूट दी जा रही है। छत्तीसगढ़ सराफा एसोसिएशन के अध्यक्ष अनिल बरड़िया ने कहा कि यह एक बड़ी राहत है और इससे सराफा की रफ्तार और बढ़ेगी। बीआईएस रायपुर के प्रमुख वी गोपीनाथ ने बताया कि सराफा कारोबारियों को राहत दी गई है। विशेषकर 40 लाख से कम टर्नओवर वाले व्यापारियों को अब पंजीयन की आवश्यकता नहीं होगी।

ये हालमार्किंग से मुक्त

जानकारी के अनुसार घड़ियां, पेन, विशेष प्रकार के कलात्मक आभूषण जैसे कुंदन, पोलकी, जड़ाऊ की ज्वेलरी, एंटीक आदि को हालमार्किंग से मुक्त रखा गया है। साथ ही पुराना सोना खरीदी के लिए भी हालमार्किंग होना अनिवार्य नहीं है।

advertisement
advertisementspot_img
advertisement
Nutan Sahuhttps://newsindiabulletin.com/
खबरों के लिए संपर्क करें CHIEF EDITOR RAIPUR 919584707238
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments

advertisement
advertisement
advertisement

Most Popular

Recent Comments

advertisement