Home Google News Chhattisgarh Jobs Trending Topics Today Raipur Web Stories

G20 Summit: कितनी बदली राजधानी? विश्व के नेताओं के लिए बिछाई रेड कार्पेट… आइये देखें

G20 Summit: कितनी बदली राजधानी? विश्व के नेताओं के लिए बिछाई रेड कार्पेट… आइये देखें

G20 Summit 2023: अगर हम दिल्ली की सजावट की बात करें तो दिल्ली को विशेष आकृतियों का फव्वारों और मूर्तियों से सजाया गया है। जिसमें भारतीय इतिहास, पौराणिक कथाओं, कला और संस्कृति का नमूना पेश किया गया है।

गायत्री मणि, समन हुसैन

G20 Summit 2023: जी20 शिखर सम्मेलन को लेकर देश की राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली पूरी तरह तैयार है। इस जी20 समिट में विश्व के करीब 29 राष्ट्राध्यक्ष, यूरोपीय संघ के उच्च अधिकारी, कई देशों के प्रतिनिधि और अंतरराष्ट्रीय संगठन के 14 नेताओं के भाग लेने की संभावना है। इन सबको ध्यान में रखते हुए दिल्ली को स्पेशल तरीके से जहां सजाया जा रहा है तो वहीं सुरक्षा की दृष्टि से दिल्ली में सीसीटीवी कैमरों के साथ सुरक्षा के अन्य भी कड़े बंदोबस्त किए गए हैं।

अगर हम दिल्ली की सजावट की बात करें तो दिल्ली को विशेष आकृतियों का फव्वारों और मूर्तियों से सजाया गया है। जिसमें भारतीय इतिहास, पौराणिक कथाओं, कला और संस्कृति का नमूना पेश किया गया है। साथ ही विशेष तरह के पौधे भी लगाए गए हैं। यह सब दिल्ली की लंबी-चौड़ी सड़कों पर देखा जा सकता है। क्योंकि दिल्ली इस सप्ताह जी 20 शिखर सम्मेलन के लिए लाल कालीन बिछाने के लिए पूरी तरह तैयार है। लोक निर्माण विभाग (पीडब्ल्यूडी) और अन्य सिविक एजेंसियां अपने अधीन परियोजनाओं को अंतिम रूप देने में व्यस्त हैं।

लोक निर्माण विभाग के लिए जलभराव रोकना सबसे महत्वपूर्ण है। इसके लिए विभाग ने प्रमुख बिंदुओं की एक सूची तैयार की है। वहीं सुरक्षा के लिए विभाग ने पूरी दिल्ली में 1.20 लाख मौजूदा कैमरों के अलावा 44 और सीसीटीवी कैमरे लगाए हैं। इसके अलावा स्पेशल वर्दी में टीमों को तैयार किया गया है, जो सड़क पर तुरंत एक्शन ले सकें। यह टीम दिल्ली पुलिस और सुरक्षा कर्मियों के साथ समन्वय का भी काम करेंगी।

पीडब्ल्यूडी के एक अधिकारी ने कहा, “हमने अपना काम 31 अगस्त को पूरा कर लिया है। हम 1-7 सितंबर तक ड्राई रन करेंगे। सभी सड़कों, सुरंगों, अंडरपासों और फुटपाथों को धोया जाएगा और फव्वारों में पानी बदला जाएगा। 8-10 सितंबर संबंधित अधिकारी विभिन्न स्थानों पर तैनात रहेंगे, ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि सब कुछ सही है। पीडब्ल्यूडी कंट्रोल रूम 24 घंटे फव्वारे, रोशनी और नागरिक बुनियादी ढांचे के कामकाज की निगरानी करेगा। इसी बीच इंडियन एक्सप्रेस ने दक्षिण और मध्य दिल्ली के प्रमुख स्थानों का दौरा किया। टीम ने जी20 को लेकर की गई तैयारियां का जायजा लिया।

आइये देखें

1. एयरपोर्ट रोड को डिजाइन किया गया

सेंट्रल विस्टा के पुनर्विकास में उपयोग किए गए सजावटी लैंप पोस्ट, हरे-भरे पौधे और एक फव्वारे के साथ नंदी की मूर्ति। यहा G20 प्रतिनिधियों और उनके परिवारों के लिए शहर का पहला लुक होगा। जो विशेष रूप से पिछले कुछ महीनों में तैयार किया गया। जी20 समिट में11.5 किमी लंबे एयरपोर्ट रोड को डिजाइन किया गया। साथ ही इसको दो भागों में बांटा गया। इसमें एक रास्ता विदेश से आए नौकरशाहों और नेताओं के स्वागत लिए तैयार है, जबकि दूसरा- पालम में वायु सेना स्टेशन का तकनीकी क्षेत्र जो सभी देशों और राज्यों के प्रमुखों के स्वागत के लिए है।

2. धौला कुआं मेट्रो स्टेशन से NHAI दीवार तक

इस खंड में अब एक फव्वारा, जी20 लोगो और इसकी टैगलाइन ‘वसुदेव कुटुंबकम – एक पृथ्वी, एक परिवार, एक दुनिया’ के साथ नंदी की मूर्ति है। एनएचएआई द्वारा पहले बनाई गई ऊंची लाल दीवारों के किनारे 24 ज्वालामुखी फव्वारे, फूलों और अन्य पौधों के साथ कई बर्तन हैं। रात में फव्वारे और दीवारें रंग-बिरंगी रोशनी से जगमगाएंगी। एनएचएआई की दीवार से उलान बातर रोड तक के फुटपाथों पर पत्थर की बेंच और एक पत्थर का पात्र है, जिसमें तैरती हुई सजावटी सामग्री रखी जा सकती है। इस खंड पर एक फुट ओवरब्रिज में नई प्रकाश व्यवस्था भी है।

3. उलान बातर रोड से एनएसजी जंक्शन

इस खंड पर, प्रतिनिधि मूर्तियों और फव्वारों की एक सीरीज देख सकेंगे। एक 3 फुट का काला संगमरमर का शेर, एक आधार पर शेर की मूर्ति के साथ दो गीजर फव्वारे और फव्वारे के साथ चार शेर। मेहराम नगर की ओर, फव्वारों के साथ गुलाबी बलुआ पत्थर के दो हाथी, कई नोजल फव्वारे और घोड़े के फव्वारे लगाए गए हैं।

4. एनएसजी जंक्शन से हवाईअड्डा सुरंग

यहां शेर की मूर्तियों (6-फीट ऊंची) के अलावा, सड़कों के दोनों किनारों पर यक्षिणियों की मूर्तियां हैं। जी20 लोगो के साथ आयताकार स्क्रीन भी हैं, जो भारत मंडपम (शिखर सम्मेलन स्थल) और दिल्ली के अन्य प्रतिष्ठित स्थानों को दिखाती हैं। सुरंग के निकास पर दो कृत्रिम चट्टानी झरने हैं।

5. पालम हवाई अड्डे की ओर एनएसजी जंक्शन-हनुमान जंक्शन

यहां, सेंट्रल वर्ज और ट्रैफिक आइलैंड को मौसमी फूलों और गेंदा, बोगनविलिया और निमेरिया जैसे देशी पौधों के साथ एक ग्रीन बेल्ट में बदल दिया गया है। जैसे ही कोई सड़क पर आगे बढ़ता है, छह बुलबुले वाले फव्वारे, वायु सेना द्वारा स्थापित मिग विमान का एक मॉडल और तीन एलईडी स्क्रीन दिखाई देती हैं।

यहां 18 शिवलिंग फव्वारे, 14 घोड़े की मूर्तिकला वाले फव्वारे भी हैं। साथ ही नृत्य करती आकृतियों की 8 मूर्तियां भी हैं। लगभग 730 लैंप पोस्ट सजाए गए हैं, जबकि पौधों के चारों ओर 900 लाइटें और अप-लाइटर लगाए गए हैं। सभी जी20 देशों के झंडों के 10 सेट धौला कुआं से एनएसजी क्रॉसिंग और एनएसजी क्रॉसिंग से एयरफोर्स गेट तक सड़कों के दोनों किनारों पर लगाए जाएंगे, जिसमें थिमैया मार्ग और परेड रोड भी शामिल हैं।

पीडब्ल्यूडी के एक अधिकारी ने कहा, ‘पूरे हिस्से का फिर से विकास किया गया है। पिछले साल जून-जुलाई में यह का शुरू हुआ था। वीवीआईपी रोड से 25,000 मीट्रिक टन और उलान बातर रोड से 15,000 मीट्रिक टन मलबा हटाया गया था। जिसको अब हम अंतिम रूप दे रहे हैं।

6. भैरों मार्ग से भारत मंडपम गेट नं. 7

यह सड़क जिस पर पहले कारों की कतारें, दाग वाली दीवारे और किनारे पर पड़ा कूड़ा जिसकी पहचना बन चुका था। अब यह सड़क कला, संस्कृति और लोककथाओं की कहानी बयां करती हुई नजर आ रही है। जहां हर 50 मीटर पर दृश्य को बदला गया है। यहां विश्वभर के नेताओं और प्रतिनिधियों को भारतीय पौराणिक कथाओं की भी झलक मिलेगी। यहां भगवान हनुमान की हाथ जोड़े एक पेंटिंग है और किनारे पर ‘जय सिया राम’ लिखा हुआ। हनुमान के साथ दीवार पर राम, लक्ष्मण को भी दर्शाया गया है। भगवान श्रीकृष्ण को भी गोपियों के साथ दिखाया गया है। वहीं प्रगति मैदान के सामने की झुग्गियों को G20 लोगो वाले पोस्टर वाले अस्थायी शेड से ढक दिया गया है।

यहां क्या बदला-

रेलवे अंडर-ब्रिज 13 के नीचे, जहां सड़क तीन हिस्सों में बंटती है, एक दीवार जंगल की पृष्ठभूमि में एक भाप इंजन ट्रेन को पुल पार करते हुए दर्शाती है, जबकि दूसरी दीवार बहुमंजिला इमारतों और वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन के साथ आधुनिक भारत को दिखाती है। कई स्थानों पर ‘स्वागत’ चिह्न और जी20-थीम वाली लाइटें लगाई गई हैं, जबकि फुटपाथों को बड़े पौधों से सजाया गया है। सेंट्रल वर्ज पर भी खेल के फव्वारे हैं। भैरों मार्ग नाले के 240 मीटर के हिस्से को भी ‘नहर जैसा’ रूप देने के लिए सजाया गया है। किनारों पर सजावटी पत्थर लगाए गए हैं और एक सेल्फी पॉइंट बनाया गया है।

3. भारत मंडपम गेट-सुप्रीम कोर्ट मेट्रो स्टेशन

इस मार्ग पर यातायात सुव्यवस्थित कर दिया गया है। फेरीवालों और अतिक्रमण को हटा दिया गया है। स्टेशन की दीवारों सफेद और नीले रंग से पोता गया है।

यहां नया क्या है-

भारत मंडपम के गेट 6 और 7 के बाहर एक स्टील की मूर्ति लगाई गई है, जिस पर ‘तिरंगा, संप्रभु राज्य’ लिखा हुआ है। तितली के पंखों की एक और स्टील की मूर्ति है। इस क्षेत्र में भी कई फव्वारे लगाए गए हैं। भारत मंडपम के गेट नंबर 4 से 7 तक 13 फव्वारे है। जेट फव्वारों के साथ मुकुट की चार मूर्तियां लगाई गई हैं। यह मूर्तियां नोजल, जेट फव्वारे झाड़ियों, बांस, कैलेंडुला, अल्बा, हिबिस्कस और बोगनविलिया जैसे पौधों से घिरी हुई हैं।

अंतर्राष्ट्रीय संगठनों – विश्व बैंक, संयुक्त राष्ट्र, अफ्रीकी संघ, एशियाई विकास बैंक, अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन के साथ 20 सदस्य देशों के झंडे लगाए गए हैं। गेट के पास दो सेल्फी पॉइंट भी हैं। अंडरपास और सुरंगों के पास यातायात द्वीपों और खाली स्थानों को पार्कों में बदल दिया गया है। 200 से अधिक पेड़ों पर ड्रॉपलाइट भी हैं।

4. ITO से राजघाट

प्रगति मैदान के विपरीत, इस क्षेत्र को दिल्ली सरकार की स्ट्रीटस्केपिंग परियोजना के तहत विकसित किया गया था। आईटीओ ट्रैफिक सिग्नल से शुरू होकर दिल्ली गेट की ओर, सभी पुरानी लाइटों को स्मार्ट पिलर से बदल दिया गया है, जिनमें एलईडी लाइटें हैं।

इस क्षेत्र में नया क्या है-

सेंट्रल वर्ज समेत खाली जगहों पर अब मौसमी फूल, पौधे और छोटे पेड़ हैं। दिल्ली गेट पर, धौलपुर के दो बलुआ पत्थर के फव्वारों के साथ कोणार्क के पहिए की एक छोटी प्रतिकृति स्थापित की गई है। शांतिवन के बाहर चार फव्वारे लगाए गए हैं। इस क्षेत्र में पीडब्ल्यूडी ने साइनबोर्ड लगाए हैं, जहां पैदल चलने वालों को आसपास की जगहों के बारे में जानकारी मिलेगी। सजावटी रोशनी, पैदल मार्ग और साइकिल ट्रैक का भी निर्माण किया गया है। सत्याग्रह मार्ग पर और गांधी दर्शन के पास महात्मा गांधी की साइकिल चलाते और चरखा चलाते हुए प्रतिमाएं भी लगाई गई हैं।

पुराना किला से डीपीएस मथुरा रोड

चिड़ियाघर, पुराना किला और शिल्प संग्रहालय के सामने लाइटिंग की गई है। सड़कों के किनारे और सेंट्रल साइड्स पर नई ग्रिल लगाई गई हैं। यहां आपातकालीन वाहन और 24 घंटे सफाई कर्मी तैनात किए जाएंगे।

Join WhatsAppJoin Telegram