February 4, 2023, 6:06 am
Homeदेश-विदेशशंघाई में बुजुर्ग को मृत समझकर भेजा गया मुर्दाघर, सामने आई बड़ी...
advertisementspot_img
advertisement

शंघाई में बुजुर्ग को मृत समझकर भेजा गया मुर्दाघर, सामने आई बड़ी लापरवाही

advertisement

इस बीच अधिकारियों ने वृद्धाश्रम में रहने वाले एक जीवित बुजुर्ग को मृत घोषित कर उसे मुर्दाघर भेज दिया. जबकि वह जीवित था. शंघाई में शुरू हुई नई कोरोना लहर के बीच इस गंभीर लापरवाही के मामले की सख्त जांच शुरू कर दी गई है. चाइनीज सोशल मीडिया पर मुर्दाघर में काम करने वाले दो लोगों का वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें इस पूरी घटना का पता चला है.

शंघाई के पुटुओ जिले के शिनचेंगझेंग वेलफेयर हॉस्पिटल में मुर्दाघर में काम करने वाले दो कर्मचारी पीले रंग बैग में कवर बॉडी को लेकर जा रहे हैं. इनमें से एक शख्स बैग को खोलता है और जोर देकर बोलता है कि यह व्यक्ति मरा नहीं है. PPE किट पहने इस शख्स के दावे के बाद अन्य स्टाफ सदस्यों ने जांच की तो पाया कि सच में बुजुर्ग की सांसें चल रही थीं. घोर लापरवाही करते हुए स्टाफ मेंबर ने फिर से बैग को सील कर दिया, लेकिन पास से गुजर रहे लोगों ने इसका विरोध किया और कहा कि यह शख्स दम घुटने से मर जाएगा. इसके बाद बुजुर्ग शख्स को इस बैग से निकालकर व्हील चेयर पर इलाज के लिए ले जाया गया.

चीन में एक बुजुर्ग शख्स को मृत समझकर भेजा गया मुर्दाघर

शंघाई में लोगों के बीच खौफ

इस घटना से शंघाई में रहने वाले लोगों के बीच डर का माहौल है. 28 मार्च से यहां सख्त लॉकडाउन लगा हुआ है, जिस वजह से यहां लोगों के बीच शोक और गुस्सा है. ओमिक्रॉन वेरिएंट को कंट्रोल में न रख पाने की वजह से शंघाई की स्थानीय सरकार की काफी आलोचना हो रही है. 2.6 करोड़ आबादी वाले इस शहर को एक मार्च से ही लॉकडाउन झेलना पड़ रहा है. इस कारण शहर में जगह-जगह प्रदर्शन हो रहे हैं.

प्रशासन ने मानी लापरवाही

पुटुओ के सिविल अफेयर्स ब्यूरो ने भी इस लापरवाही को स्वीकार किया है और जांच के लिए टास्क फोर्स गठित की है. साथ ही कहा है कि दोषी लोगों को कड़ी सजा मिलेगी. इस बुजुर्ग शख्स को इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया था. शंघाई में रविवार को भी 7333 नए कोविड-19 मामले सामने आए थे और इस दौरान 32 लोगों की मौत हो गई थी. अब तक यहां 431 लोगों की मौत हो चुकी है, जिनमें से अधिकतर बुजुर्ग हैं. इस केयर सेंटर को 1983 में स्थापित किया गया था अैर यहां 100 से ज्यादा बुजुर्ग रहते हैं. केयर सेंटर ने अपनी इस लापरवाही के लिए माफी भी मांगी है.

advertisement
advertisement
advertisement
RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments

advertisement
advertisement
advertisement

Most Popular

Recent Comments

advertisement
%d bloggers like this: