Home Google News Chhattisgarh Jobs Trending Topics Today Raipur Web Stories

ग्राम डोंडकी में सतनाम महासम्मेलन के अवसर पर विधिक जागरूकता कार्यक्रम संपन्न..

SAKTI: अपराधों के रोकथाम हेतु समाज में जागरूकता की महती आवश्यकता है : – न्यायाधीश यशवंत सारथी

सामाजिक समरसता के लिए सतनाम समाज के संत बाबा घासीदास एवम् महामानव बाबा अंबेडकर का योगदान अविस्मरणीय व अनुकरणीय:-चितरंजय पटेल अधिवक्ता

संस्कृति व संस्कार को आत्मसात करते हुए एकता से ही सामाजिक प्रगति संभव:-भटपहरी, प्रदेशाध्यक्ष प्रगतिशील सतनाम संघ
समाज में अपराधों के रोकथाम हेतु जागरूकता की महती आवश्यकता है, यह बात कहते हुए यशवंत कुमार सारथी विशेष न्यायाधीश (पाक्सो) सक्ती ने सतनाम महासम्मेलन के मुख्य अतिथि के आसंदी से उपस्थित लोगों से खासकर युवा, बच्चों को अपराध करने के बाद पछताने के बजाय अपराध करने से बचने पर जोर दिया,उन्होंने अपने विशेष अंदाज में नारीशक्ति की महत्व को स्वरचित कविता के माध्यम से रेखांकित करते हुए महिलाओं की शिक्षा व संस्कार पर बल दिया, भारतीय संविधान के प्रस्तावना का वाचन करते हुए बाबा घासीदास व भीम राव अंबेडकर के जीवन को आत्मसात करने का आग्रह किया एवं उनके ठेठ छत्तीसगढ़िया अंदाज का लोग कायल नजर आ रहे थे।

इस अवसर अति विशिष्ट अतिथि राष्ट्रीय मानव अधिकार आयोग लीगल सेल के प्रदेशाध्यक्ष व उच्च न्यायालय अधिवक्ता चितरंजय पटेल ने सतनाम समाज के रत्न बाबा गुरु घासीदास को संत कहा तो वहीं बाबा साहब अम्बेडकर को महापुरुष बताते हुए सामाजिक समरसता के लिए उनके योगदान को अविस्मरणीय व अनुकरणीय कहा एवं जिस प्रकार संत घासीदास ने समाज में व्याप्त कुरीतियों को त्याग सामाजिक समानता का अलख जगाया तो वहीं महामानव भीम राव अंबेडकर ने भारतीय संविधान के माध्यम से लोगों को सामाजिक समानता का अधिकार दिलाया।

आर पी भतपहरी प्रदेश अध्यक्ष प्रगतिशील सतनामी समाज ने अपने सारगर्भित शैली में समाज के विकास की चर्चा करते हुए सामाजिक संस्कार व संस्कृति को आत्मसात कर कुरीतियों से बचने का आग्रह के साथ सामाजिक एकता को सशक्त बनाने का आह्वान किया। विजय कुर्रे प्रदेश सह सचिव ने लोगों को एकजुट होने का आग्रह किया तो वहीं श्रीमती कुसुमलता अजगले जनपद सदस्य ने महिलाओं को शिक्षित होकर मुख्य धारा में पुरुषों के कंधे से कंधा मिलाकर समाज को मजबूत बनाने का आग्रह किया।

सर्वप्रथम आगंतुक अतिथि यशवंत कुमार सारथी न्यायाधीश, चितरंजय पटेल अधिवक्ता, आर पी भटपहरी प्रदेशाध्यक्ष के साथ ही मंचासीन विनोद भारती प्रदेश संरक्षक, जी आर बंजारे, अरुण महिलांगे, मिलन लहरे कोरबा, छोटेलाल भारद्वाज, डा विजय लहरे,शंकर यादव, अधिवक्ता राकेश रोशन महंत, उदय मधुकर आदि लोगों के द्वारा बाबा घासीदास के चित्र पर माल्यार्पण व दीप प्रज्जवलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया।

तदपश्चात अतिथियों का चंदन तिलक व पुष्पहार एवम् पंथी नृत्य के माध्यम से स्वागत किया गया । अंत में पंथी नाच प्रतियोगिता में अंचल के विभिन्न हिस्सों से पधारे कलाकारों के द्वारा बाबा के संदेशों को बताते हुए मधुर गीतों पर शानदार नृत्य का प्रदर्शन किया जिससे उपस्थित दर्शक मंत्रमुग्ध नजर आ रहे थे।एक लंबे अंतराल के बाद अंचल में पंथी को पहचान देने वाले डोंडकी ग्राम में आयोजित कार्यक्रम को लेकर गांव के साथ आसपास के लोग भारी संख्या में उपस्थित रहे जिनमें काफी उत्साह दिखाई दे रहा था।कार्यक्रम का संचालन डा विजय लहरे और साथियों ने किया तो आभार प्रदर्शन आयोजक सत्यम झंकार पंथी नृत्य दल की ओर से योम लहरे ने किया।

Latest

Join WhatsAppJoin Telegram