Home Google News Chhattisgarh Jobs Trending Topics Today Raipur Web Stories

Mahashivratri 2023: शिव ज्योति अर्पणम् के लिए Ujjain तैयार,21 लाख दीपक जलाकर मनाया जायेगा पर्व

18 फरवरी को शिव ज्योति अर्पणम कार्यक्रम में 21 लाख दीयों का प्रज्वलन कर गिनीज वर्ल्ड रिकार्ड बनाया जायेगा। वर्तमान में सर्वाधिक दीप प्रज्वलन का रिकार्ड अयोध्या दीपोत्सव-2022 में 15 लाख 76 हजार दीप प्रज्वलित कर बनाया गया है।

उल्लेखनीय है कि शिव ज्योति अर्पणम कार्यक्रम के अन्तर्गत संकल्प-पत्र वितरित किये जायेंगे। इसमें घर-घर दीये जलाये जायेंगे। शहर के सभी प्रमुख चौराहों को स्थानीय वार्ड के पार्षद एवं अन्य गणमान्य नागरिकों के सहयोग से विद्युत रोशनी से जगमग किया जायेगा।

कुछ ऐसी रहेगी व्यव्स्था

शिप्रा नदी पर दीप प्रज्वलन के लिये सम्पूर्ण घाटों को पांच ब्लॉक में बांटा गया है। इसमें ‘ए’ ब्लॉक में केदारेश्वर घाट पर, ‘बी’ ब्लॉक सुनहरी घाट पर, ‘सी’ ब्लॉक दत्त अखाड़ा क्षेत्र में, ‘डी’ ब्लॉक रामघाट पर तथा ‘ई’ ब्लॉक भूखी माता की ओर दीपों का प्रज्वलन किया जायेगा। एक ब्लॉक में 225 दीये दो वॉलेंटियर द्वारा प्रज्वलित किये जायेंगे। इस प्रकार एक सब-सेक्टर में 40 से 50 ब्लॉक होंगे तथा 100 के लगभग वॉलेंटियर्स होंगे। प्रति सौ वॉलेंटियर्स पर दो सुपरवाइजर लगाये जायेंगे और प्रति एक हजार वॉलेंटियर्स पर एक कंट्रोल आफिसर नियुक्त किया जायेगा। विभिन्न समाजों और संस्थाओं द्वारा वॉलेंटियर्स की सूची प्रदाय कर दी गई है। विभिन्न सेक्टर वाइज वॉलेंटियर्स के लिये प्रवेश-पत्र बनाये गये हैं। कार्ड में होलोग्राम लगाये गये हैं। वॉलेंटियर्स को 10 मिनिट की समय-सीमा में दीये जलाकर पीछे हटना होगा। इसके बाद अगले पांच मिनिटों में ड्रोन से प्रज्वलित दीयों की फोटोग्राफी की जायेगी। यह समय अत्यन्त महत्वपूर्ण होगा, अत: सभी वॉलेंटियर्स को समय-सीमा का विशेष ध्यान रखने के निर्देश दिये गये हैं।

जीरो वेस्ट कार्यक्रम रहेगा


शिव ज्योति अर्पण कार्यक्रम जीरो वेस्ट कार्यक्रम रहेगा। इसमें खाली तेल की बोतलों को पुन: उपयोग करते हुए उद्यान में कुर्सियां, बेंचेस, गमले आदि बनाये जायेंगे। मोमबत्तियों को जलाने के लिये पेपर मैच बॉक्स का उपयोग किया जायेगा। जली हुई रूई की बत्तियों को पुन: उपयोग करते हुए रैन बसेरों के गद्दे-बिस्तर बनाने में इसका उपयोग होगा। दीपोत्सव की व्यापक तैयारियां जारी है। इस बार गिनीज वर्ल्ड रिकार्ड स्थापित किया जायेगा। इस बार दीपोत्सव के लिये घाटों की संख्या भी बढ़ाई जा रही है। कुल छह सेक्टर बनाये गये हैं व 20 हजार वॉलेंटियर्स को इसमें शामिल किया जा रहा है।

Join WhatsAppJoin Telegram