Success Story: 10वीं या 12वीं में खराब अंक लाने वाले या फेल होने वालों को निराश नहीं होना चाहिए। कम अंक या एक बार की असफलता किसी का भविष्य तय नहीं कर सकती। ईश्वर गुर्जर इसका एक नया उदाहरण हैं। बैकबेंचर रहे ईश्वर गुर्जर 10वीं में फेल हो गए थे। लेकिन फिर उन्होंने वापसी की और यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा 2022 पास की। यूपीएससी के सफर में उन्हें तीन बार असफलता का सामना भी करना पड़ा। लेकिन असफलताओं ने उनका हौसला नहीं तोड़ा।

Success Story : 10वीं में हुए फेल छोड़ना चाहा पढ़ाई, पिता ने दी ऐसी सलाह UPSC क्वालीफाई कर गये

ईश्वर गुर्जर राजस्थान के भीलवाड़ा के भांबरा जिले के बड़िया जिले के रहने वाले हैं। यूपीएससी 2022 में उनकी 644वीं रैंक है। उनके पिता सुवालाल गुर्जर किसान हैं। जबकि मां सुखी देवी गृहिणी हैं। पिता ने खेती कर बेटे को पढ़ाया है। उन्हें अपने बेटे की सफलता पर गर्व है। ईश्वर गुर्जर की बहन भावना की शादी हो चुकी है। जबकि छोटी बहन पूजा 12वीं कक्षा में पढ़ती है।

10वीं में हो गए थे फेल

ईश्वर ने बताया कि वह 2011 में 10वीं में फेल हो गया था। इसके बाद मैंने पढ़ाई छोड़ने का मन बना लिया था। लेकिन पिता ने कहा कि इतनी जल्दी घबराने की जरूरत नहीं है। एक बार असफल होने पर हार नहीं माननी चाहिए। इसके बाद उन्होंने 2012 में 54% अंकों के साथ 10वीं पास की। उसके 12वीं में 68% अंक थे।

ग्रेजुएशन के बाद बने टीचर

ईश्वर गुर्जर ने महर्षि दयानंद विश्वविद्यालय, अजमेर से बीए किया है। इसके बाद साल 2019 में वह तृतीय श्रेणी शिक्षक बने। वह पास के गांव रूपरा के सरकारी प्राथमिक विद्यालय में शामिल हो गया है। इसके साथ ही यूपीएससी की तैयारी भी चलती रही।

2019 में ईश्वर प्री भी पास नहीं कर सके

ईश्वर गुर्जर ने अपने चौथे प्रयास में यूपीएससी क्रैक किया है। साल 2019 में वह यूपीएसी प्रीलिम्स भी क्लियर नहीं कर पाए थे। लेकिन साल 2020 में इंटरव्यू तक पहुंचे। इसके बाद साल 2021 में भी वे फेल हो गए। तीन बार असफल होने के बाद भी उन्होंने हार नहीं मानी।