Home Google News Chhattisgarh Jobs Trending Topics Today Raipur Web Stories

Big ब्रेकिंग: आदिवासी दिग्गज नेता डॉ नंदकुमार साय ने पार्टी से दिया इस्तीफा..

चुनाव से पहले BJP को बड़ा झटका लगा है. भाजपा के वरिष्ठ आदिवासी नेता डॉ. नंद कुमार साय ने इस्तीफा दे दिया है. प्रदेश अध्यक्ष अरुण साव को पत्र लिखकर इस्तीफा सौंपा है. इतना ही नहीं नंद कुमार साय ने पार्टी के नेताओं पर छवि धूमिल करने का आरोप भी लगाया है. 

उन्होंने इस्तीफे पत्र में लिखा कि, भारतीय जनता पार्टी के गठन और अस्तिव में आने के प्रारंभ से लेकर आज पर्यन्त तक पार्टी द्वारा विभिन्न महत्वपूर्ण पदों और उत्तरादायित्व की जितनी भी जिम्मेदारी मुझे दी गई, उसे पूरे समर्पण एवं कर्तव्य परायणता के साथ मैने अपने उत्तरदायित्व एवं पदों का निर्वहन किया, जिसके लिए मैं पार्टी का आभार व्यक्त करता हूं.

पिछले कुछ वर्षों से भारतीय जनता पार्टी में मेरी छवि धूमिल करने के उद्देश्य से मेरे विरूद्ध अपनी ही पार्टी के राजनीतिक प्रतिद्वंदियों द्वारा षड़यंत्रपूर्वक मिथ्या आरोप और अन्य गतिविधियों द्वारा लगातार मेरी गरिमा को ठेस पहुंचाया जा रहा है, जिससे मैं अत्यंत आहत महसूस कर रहा हूं.

उन्होंने लिखा कि बहुत गहराई से विचार करने के बाद मैं भारतीय जनता पार्टी की अपनी प्राथमिक सदस्यता एवं अपने सभी पदों से इस्तीफा दे रहा हूं. मेरी इस्तीफा स्वीकार करने की कृपा करें.

उन्होंने ट्वीट कर कहा कि, आज भारतीय जनता पार्टी जिसके गठन से लेकर आज पर्यन्त तक पूरे मेहनत एवं ईमानदारी से सींच कर फर्श से अर्श तक पहुंचाया था, उसे छोड़ते समय अत्यंत पीड़ा एवं दुख तो हो रहा है परन्तु वर्तमान में पार्टी में मेरे समाज की एवं मेरी छवि और गरिमा को जैसे आहत किया जा रहा था.

नंदकुमार साय ने कहा था कि बस्तर को ठीक करने के लिए पुराने नेताओं की ड्यूटी लगाने की जरुरत है. बीजेपी संगठन में लगातार आदिवासी नेताओं की उपेक्षा की जा रही है. विष्णुदेव साय को विश्व आदिवासी दिवस के ही दिन उन्हें प्रदेश अध्यक्ष के पद से हटा दिया गया. वहीं भारतीय जनता पार्टी के नेताओं का कहना है कि नाराजगी की कोई ऐसी बात नहीं है. नंदकुमार साय सीनियर नेता हैं. उनके मार्गदर्शन में हमें 2023 में आगे बढ़ना है.

Join WhatsAppJoin Telegram